हिंदी पत्र लेखन | Letter in Hindi

इस लेख में हिंदी पत्र लेखन (Letter in Hindi) से जुड़ी लगभग सारी बुनियादी जानकारी आपसे साझा की गयी है। साथ ही इस लेख में हिंदी पत्र लेखन के कुछ उदाहरण को भी शामिल किया गया है।

भाषा के दो रूप होते हैं- पहला मौखिक तथा दुसरा लिखित। मौखिक रूप में हम बोलकर अपने विचारों को वयक्त करतें हैं, तो वहीँ दूसरी तरफ लिखित रूप में विचारों को लिखकर वयक्त किया जाता है। पत्र लेखन अपने विचारो को लिखित रूप में व्यक्त करने सबसे अनूठा और कारगर जरिया माना गया है।

प्राचीन काल से ही विचारो के आदान-प्रदान में पत्र का बहुत बड़ा योगदान रहा है। वर्तमान समय में भी संचार जगत् में आई क्रांति के बावजूद पत्रों का महत्व कम नहीं हुआ है। कार्यालय संदेश हों चाहे वयक्तिगत संदेश हो, पत्र अपना अस्तित्व बनाये हुए अपने विचारों एवं संदेशों को कलात्मक रूप से वयक्त करने के लिए, पत्र लेखन की कला का ज्ञान आवश्यक है।

हिंदी पत्र लेखन के प्रकार | Types of Letter in Hindi

अंग्रेजी अथवा हिंदी पत्र लेखन(Types of Letter in Hindi) के मुख्यतः दो रूप होते हैं-

  1. औपचारिक पत्र
  2. अनौपचारिक पत्र

1. औपचारिक पत्र

औपचारिक पत्र (Formal Letter in Hindi) वैसे पत्र होते हैं, जिनका इस्तेमाल आमतौर पर किसी संस्थान अथवा कार्यालय में किया जाता है। औपचारिक पत्रों के अंतर्गत अमूमन निम्नलिखित पत्रों को शामिल किया जाता है:

  • सरकारी पत्र
  • नौकरी के लिए आवेदन पत्र
  • विशेष अनुमति के लिए प्रार्थना पत्र/ आवेदन पत्र
  • व्यवसायिक पत्र
  • किसी विभाग को शिकायती पत्र
  • निमंत्रण पत्र
  • संपादकीय पत्र
  • पूछताक्ष संबंधी पत्र इत्यादि।

औपचारिक पत्र में संबोधन

हिंदी पत्र लेख के इस रूप में भाषा का काफी अहम् योगदान होता है और इस पर विशेष ध्यान रखा जाना भी अनिवार्य होता है। इसके अलावा औपचारिक पत्र में हमारी द्वारा लिखी गयी बातें नम्रतापूर्वक तो होनी ही चाहिए, ताकि पत्र से संबंधि व्यक्ति हमारी परेशानी और समस्या को सरलतापूर्वक समझ कर इस पर जल्द से जल्द कार्यवाई कर सके।

संबोधन समापन
महोदय/महोदया/मान्यवरभवदीय/भवदीया/प्रार्थी/प्रार्थिनी

मिलता जुलता लेख: हिंदी से अंग्रेजी अनुवाद सीखें | Hindi to English Translation Sentences

औपचारिक पत्रों के कुछ उदाहरण | Formal Letter in Hindi

निचे औपचारिक पत्र से जुड़े कुछ उदाहरण और प्रारूप दिए गए हैं, जिसका उपयोग कर आप हिंदी पत्र लेख को और भी आसानी से समझ बुझ कर अपनी शब्दों में पत्र लिख सकते हो।

प्रधानाध्यापक को अवकाश पत्र | Leave Letter in Hindi to Principal

दिनांक: 12 जनवरी 2023

सेवा में,

श्रीमान प्रधानाचार्य महोदय

दिल्ली पब्लिक स्कूल,

नई दिल्ली

विषय: अवकाश हेतु प्रार्थना पत्र

महाशय,

सविनय निवेदन यह है की, कल शाम से बुखार आने और गला खराब होने के कारण मैं आज विद्यालय में अनुपस्थित रहूँगा। डॉक्टर के डिश निर्देश अनुसार मुझे कम से कम दिन ठीक होने में लग सकते हैं।

अतः आपसे प्रार्थना है की आप मुझे दिनांक 12 जनवरी 2023 से 14 जनवरी 2023 तक अवकाश प्रदान करने की कृपा करें।

सधन्यवाद!

आपका आज्ञाकारी छात्र

विशाल वर्मा

कक्षा: 10(A)

क्रमांक: 07

काम की जानकारी: हिंदी सामान्य ज्ञान | GK Question in Hindi

स्कूल से आर्थिक सहायता के लिए आवेदन पत्र | Financial Help Letter in Hindi

letter in hindi
Letter in Hindi

सेवा में,

श्रीमान प्रधानाचार्य महोदय ,

जिला स्कूल, धनबाद

विषय: आर्थिक सहायता हेतु आवेदन पत्र।

महाशय,

सविनय निवेदन या है की, मैं सुशिल कुमार, आपके विद्यालय में 8 वीं कक्षा का छात्र हूँ और मेरी कक्षा क्रमांक 10 है। इस आवेदन को लिखने का उद्देश्य यह है की कल विद्यालय के सुचना पट्ट पर निर्धन छात्र कोष से सहायता के लिए आवेदन प्रेषित करने हेतु सुचना पट्ट पर कल निकली सुचना के आधार पर मैं या पत्र आपको लिख रहा हूँ।

पिछले वर्ष कक्षा 7 वीं की परीक्षा मैं 92 प्रतिशत अंक प्राप्त करके उत्तीर्ण किया है। मेरे पिताजी की आर्थिक स्तिथि अच्छी न होने के कारण मुझे विद्यालय शुल्क जमा करने में कई बार दिक्कत्तों का भी सामना करना पड़ता है। चूँकि मेरे पिताजी एक सरकारी कार्यालय में चपरासी के पद पर कार्यरत हैं, इसलिए अक्सर मेरे लिए ऐसी समस्या उत्पन्न हो जाती है।

अतःआपसे नम्र निवेदन है की मुझे निर्धन छात्र कोष से कम-से-कम 500 रूपए की मासिक सहायता राशि प्रदान करने की कृपा करें।

आपका आज्ञाकारी छात्र

सुशिल कुमार

कक्षा: 8

कक्षा क्रमांक: 10

दिनांक: 12 मार्च 2023

2. अनौपचारिक पत्र

अनौपचारिक पत्र(Informal Letter in Hindi) वैसे पत्र होते हैं जो सगे-संबंधी, मित्रों या रिश्तेदारोंको लिखे जाते हैं। इसके अंतर्गत अमूमन निम्नलिखित पत्रों को शामिल किया जाता है:

  • बधाई पत्र
  • आमंत्रण पत्र
  • सांत्वना पत्र
  • सलाह – मश्वरा संबंधी पत्र
  • शोक संदेश
  • किसी यात्रा का वर्णन संबंधी पत्र, इत्यादि।

अनौपचारिक पत्र में संबोधन

जैसा की आप समझ चुके हैं की अनौपचारिक पत्र सेज-सम्बन्धियों को लिखे जाते हैं, जिससे इसमें औपचारिकता नहीं होती। लेकिन अनुपचारिक पत्र में भी अलग-अलग व्यक्तियों के लिए संबोधन तथा अभिवादन के तरीके अलग-अलग हैं।

रिश्ते का प्रकार प्रारंभिक सम्बोधन अभिवादन समापन सम्बोधन
पिता, मामा अथवा चाचापूजनीय, पूज्य, आदरणीयसादर चरण स्पर्शआपका सुपुत्र, भांजा, भतीजा अथवा आपकी सुपुत्री, भांजी, भतीजी
माँ, मामी, चाची, अथवा दादीपूजनीय, पूज्य, आदरणीयसादर चरण स्पर्शआपका सुपुत्र, भांजा, भतीजा, सुपौत्र अथवा आपकी सुपुत्री, भांजी, भतीजी, सुपौत्री
मित्र अथवा सहेलीप्रियसप्रेम नमस्तेतुम्हारा मित्र, तुम्हारी सखी
बड़ा भाई, बड़ी बहनआदरणीय अग्रज(भाई के लिए), आदरणीय अग्रजा(बहन के लिए)सादर प्रणामआपका अनुज, आपकी अनुजा
छोटा भाई, छोटी बहनप्रिय अनुज(भाई के लिए), प्रिय अनुजा(बहन के लिए)स्नेहाशिल, शुभाशीष, चिरंजीवतुम्हारा अग्रज, तुम्हारी अग्रजा या फिर तुम्हारा/तुम्हारी शुभचिंतक

अनौपचारिक पत्रों के कुछ उदाहरण | Informal Letter in Hindi

निचे अनौपचारिक पत्र से संबंधित कुछ उदाहरण दिए गए हैं, जिसका उपयोग कर आप खुद भी अनौपचारिक पत्र लिख सकते हो।

मित्र को बधाई पत्र | Congratulation Letter in Hindi

परीक्षा भवन

दिनांक: 19 सितम्बर 2022

प्रिय मित्र अभिषेक

स्नेह नमस्कार,

आज ही समाचार-पत्र में दिल्ली बोर्ड की सेकेंडरी परीक्षा का परिणाम देखने को मिला। मुझे यह देखकर सुखद आश्चर्य हुआ कि तुमने सभी विषयों में विशेष योग्यता प्राप्त करते हुए 98% अंक प्राप्त कर आज तक के सारे कीर्तिमान तोड़ दिए। तुम्हारी इस महान सफलता के लिए अपनी तथा अपने परिवार के समस्त सदस्यों की ओर से हार्दिक बधाई देता हूँ।

तुम्हारे परिश्रम तथा प्रतिभा को देखकर मुझे पूर्ण विश्वास था कि तुम बहुत अच्छे अंक प्राप्त करोगे, लेकिन इस बात की कलपना नहीं की थी कि तुम अपनी इस महान सफलता से हमें और परिवार के बाकी सदस्यों को आश्चर्यचकित कर दोगे।

आज हम सब तुम पर गर्व का अनुभव कर रहे हैं। ईश्वर से प्रार्थना है कि तुम भविष्य में भी इसी प्रकार सफलता प्राप्त कर जीवन के पथ पर अग्रसर होते रहो। अपने माता-पिता को भी हम सबकी ओर से प्रणाम कहना तथा बधाई देना।

तुम्हारा मित्र

अमरेश

छोटे भाई को बधाई-पत्र | Congratulation Letter in Hindi for Brother

परीक्षा भवन

दिनांक: 25 अक्टूबर 2022

प्रिय आशीष

शुभाशीर्वाद

आज के समाचार- पत्र में यह समाचार पढ़कर ह्दय असीम प्रसन्नता से भर गया कि तुम्हें राष्ट्रपति द्वारा ‘वीर बालक पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया है। मैं तुम्हें इस पुरस्कार पर हार्दिक बधाई देती हूँ। तुमने यह पुरस्कार पाकर हमारे परिवार की गौरवशाली परंपरा को चार चाँद लगाए हैं। इससे हम सबका मस्तक ऊँचा हुआ है।

तुमने जिस बहादुरी का प्रदर्शन करके अपने साथियों की जान बचाई थी, वह घटना निश्चय ही अदम्य वीरता की परिचायक है। मैं आशा करती हूँ कि तुम भविष्य में इससे भी महान कार्य करोगे। एक बार पुनः बधाई एवं शुभाशीष।

तुम्हारी शुभचिंतिका

प्रियंका कुमारी

अंतिम शब्द

इस लेख के माध्यम से आपने हिंदी पत्र (Letter in Hindi) लेखन को जाना और समझा। साथ ही आपने हिंदी पत्र लेख के रूप और इसके कुछ उदाहरण को भी पढ़ा। इस लेख से सम्बंधित किसी प्रकार की कोई समस्या, सुझाव अथव शिकायत आपके पास हो तब निचे कमेंट करके हमें जरूर बतलायें, धन्यवाद।

FAQs

Q: औपचारिक पत्र हिंदी में कैसे लिखें?

उत्तर: हिंदी में औपचारिक पत्र(Formal Letter in HIndi) लिखने के कुछ नियम और कायदे होते हैं। जिसे आप प्रारूप अर्थात Format भी कह सकते हैं। इस Format अर्थात प्रारूप का पालन करके आप आसानी से हिंदी में औपचारिक पत्र लिख सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए पोस्ट/लेख को देखें।

Q: पत्र के कितने अंग होते हैं?

उत्तर: अनौचारिक पत्र के 6 से 8 अंग हो सकते हैं, जो की कुछ इस प्रकार हैं: 1. प्रेषक का पता, 2. दिनांक अर्थात तिथि, 3. आरंभिक सम्बोधन, 4. अभिवादन, 5. विषय वस्तु, 6. समापन संबोधन। अगर बात करें औपचारिक पत्र की तब इसके भी 7 से 9 अंग हो सकते हैं, जैसा की ऊपर लेख में बताया गया है।

Leave a Comment