2022 में डेबिट कार्ड के 8 फायदे और नुकसान

डेबिट कार्ड या फिर कहें ATM Card, ये कैशलेस लेनदेन का सबसे बेहतरीन जरिया है और साथ ही ये काफी सुविधाजनक भी है। कई देशों में इस ATM cum डेबिट कार्ड को लोग प्लास्टिक मनी या प्लास्टिक कार्ड के नाम से भी जानते हैं।

ATM Card का इस्तेमाल खुदरा खरीदारी से लेकर ऑनलाइन खरीदारी में किया जाता है। सबसे ज़्यादा फायदा तो इसका तब समझ में आता है। जब आपके पास कैश की कमीं हो और आप झट-पट अपने ऑफिस या घर के पास स्तिथ किसी भी बैंक की ATM मशीन से कैश निकाल लाएं।

डेबिट कार्ड (ATM Card)काम कैसे करता है?

आजकल किसी भी बैंक में खाता खुलवाने के पश्चात ही नए ATM कार्ड की सुविधा हाथों-हाथ दे दी जाती है। इस ATM Card का इस्तेमाल ATM Machine के जरिये कैश विथड्रॉल करके या फिर ऑनलाइन शॉपिंग के दौरान पेमेंट करके या फिर किसी स्थानीय ग्रोसरी या किसी अन्य दूकान में कैशलेस पेमेंट के रूप में किया जाता है।

डेबिट कार्ड के फायदे और नुकसान
ATM Machine से पैसे निकालते हुए

चूँकि ATM Card सीधे बैंक खाते से जुड़ा होता है और जब भी इसके जरिये कोई पेमेंट या विथड्रॉल किया जाता है। तब चंद सेकंड में ही पैसे ग्राहक के बैंक खाते से काट कर मर्चेंट के बैंक खाते में ट्रांसफर कर दिए जाते हैं। इस लेख के माध्यम से आगे आप जानोगे की की डेबिट कार्ड (प्लास्टिक मनी) या कहें ATM Card के क्या फायदे हैं और साथ ही इससे जुड़े संभावित नुकसान के बारे में भी आप जानोगे।

डेबिट कार्ड के फायदे

कुछ लोग आज भी क्रेडिट कार्ड के स्थान पर डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करना ज़्यादा पसंद करते हैं। क्यूंकि ये आपको फालतू परेशानियों जैसे की EMI या फिर क्रेडिट स्कोर जैसे किसी झमेले से कोशों दूर रखती है। हद्द से ज्यादा सुविधा देना ही क्रेडिट कार्ड की कमियां मानी जाती है इसलिए आज भी लोग डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करना ज़्यादा पसंद करते हैं। डेबिट कार्ड इस्तेमाल करने के फायदे कुछ इस प्रकार हैं:

1. आसानी से मिल जाता है

क्रेडिट कार्ड को जारी करवाना किसी भी आम इंसान के लिए थोड़े मुश्किलों से भरा काम है क्यूंकि कोई भी वित्तीय संस्थान क्रेडिट कार्ड तभी जारी करता है जब आपका क्रडिट स्कोर बढ़िया हो। लेकिन डेबिट कार्ड के साथ ऐसी कोई परेशानियां बिल्कुल भी नहीं है और यह आपको बैंक में खाता खुलवाते ही दे दिया जाता है।

अगर किसी कारणवश आपने डेबिट कार्ड जारी नहीं करवाया हो तब भी इसे आप किसी भी समय बैंक में जाकर एक साधारण सा फॉर्म भरकर जारी करवा सकते हैं।

2. सुविधाजनक

डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करना और इसके जरिये भुगतान करना क्रेडिट कार्ड की तुलना में काफी आसान होता है क्यूंकि डेबिट कार्ड से पेमेंट करने के दौरान ही आपके खाते से पैसे काट लिए जाते हैं। साथ ही डेबिट कार्ड का इस्तेमाल इस बात पर निर्भर करता है की आपके कहते में कितने पैसे जमा है।

इसका इस्तेमाल आप ग्रोसरी की दूकान से लेकर हवाई जहाज की टिकट बुकिंग तक कर सकते हैं। क्रेडिट कार्ड की तरह इसमें कोई बोनस पॉइंट या ज़्यादा कैश-बैक तो नहीं मिलता पर यह आपको EMI और ब्याज से जुडी परेशानियों से दूर रखता है।

3. सुरक्षित

डेबिट कार्ड अटवा ATM Card का इस्तेमाल आपको कई प्रकार की सुरक्षा भी देता है। डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करने पर आपको ज़्यादा कैश अपने साथ रखने की जरूरत नहीं पड़ती और साथ ही आप इस बात से भी निश्चिन्त होते हैं की कहीं कोई आपको लूट न ले। आपके डेबिट कार्ड का इस्तेमाल कर पैसे निकलना किसी अनजान के लिए बिल्कुल भी आसान नहीं है क्यूंकि इसमें 4 से 6 अंकों का पासवर्ड या कहें की PIN लगा होता है।

किसी कारणवश अगर कोई इंसान आपके डेबिट कार्ड का इस्तेमाल कर पैसे खर्च भी कर देता है तब आप जल्द-से-जल्द बैंक के ग्राहक सेवा केंद्र पर कॉल करके अपने ATM को बंद करवा सकते हैं, ताकि भविष्य में इससे किसी तरह की कोई निकासी न कर सके।

4. सब जगह स्वीकार किया जाता है

ग्रोसरी की दूकान से लेकर प्लेन की टिकट बुकिंग तक और साथ ही अब तो डेबिट कार्ड का इस्तेमाल आप विदेशों में ATM मशीन से भी पैसे निकालने और अन्य लेनदेन में किया जा सकता है। आपको अपने करेंसी को बदलवाने की झंझट ही ख़त्म हो जाती है।

वर्तमान में VISA और Master Card दो ऐसे कार्ड प्रोवाइडर हैं, जिसके जरिये बैंक अंतराष्ट्रीय बैंकों से भी पैसों की लेनदेन की सुविधा देती है। इसके लिए बैंक आपको कुछ अतिरिक्त चार्ज करते हैं।

5. प्रीपेड डेबिट कार्ड

वर्तमान में Paytm जैसे कई सारे प्राइवेट वित्तीय कंपनियां हैं जो प्रीपेड डेबिट कार्ड जैसी सुविधा देती है। प्रीपेड डेबिट कार्ड, बैंकों द्वारा जारी किये गए डेबिट कार्ड से ज्यादा सुरक्षित माने गए हैं क्यूंकि इससे आप उतने ही पैसों की लेनदन कर सकते हैं जितना आपने पूर्व भुगतान किया है।

6. बेहतर बजट

क्रेडिट कार्ड की तुलना में डेबिट कार्ड आपके बजट और खर्चों को काफी हद तक नियंत्रित करने में मदद करती है। क्यूंकि क्रेडिट कार्ड से लोग अकसर अपने बजट से बाहर जाकर खरीदारी या लेनदेन तो क्र लेते हैं लेकिन आगे चलकर उन्हें EMI के रूप में सारे पैसे चुकाने पड़ते हैं। लेकिन डेबिट कार्ड से आप उतने ही पैसे खर्च कर सकते हो जितना की खर्च करने में आप सक्षम हो।

7. कोई ब्याज शुल्क नहीं

क्रेडिट कार्ड के स्थान पर डेबिट कार्ड का इस्तेमाल इसलिए किया जाता है क्यूंकि इसमें आपसे ब्याज शुल्क वसूला नहीं जाता है। क्रेडिट कार्ड को लोग अत्यधिक ब्याज शुल्क वसूले जाने के नाम से जाना जाता है कर यह ब्याज शुल्क 10 प्रतिशत से लेकर सालाना 34 प्रतिशत तक हो सकता है है।

जोकि एक आम इंसान के लिए भारी भरकर रकम है। लेकिन डेबिट कार्ड में किसी तरह का कोई ब्याज शुल्क वसूला नहीं जाता है क्यूंकि इसमें लेनदेन और खर्च करने की बाध्यता होती है और यह आपके खाते में मौजूद पैसों पर निर्भर करती है।

मिलता जुलता लेख: भारत में म्युचुअल फंड्स के प्रकार

8. क़र्ज़ से बचाता है

क्रेडिट कार्ड से भले ही हमें काफी सारी सुविधाएं मिलती हो। लेकिन क्रेडिट कार्ड की सबसे बड़ी कमी ये है की है ये आपको क़र्ज़ में दाल देता है। लेकिन क्रेडिट कार्ड की अपेक्षा डेबिट कार्ड होने का सबसे बड़ा फायदा ये है की ये आपको बिना मतलब क़र्ज़ में नहीं डालता। अर्थात किसी भी हालात में बैंक से उतने ही पैसे काटे जाते हैं, जितने आपके खाते में मौजूद हो।

डेबिट कार्ड के नुकसान

आपने डेबिट कार्ड अथवा ATM Card से जुड़े फायदों को तो जान लिया, अब इससे जुड़े कुछ उन बातों को जान लेना जरुरी है, जिससे आपको नुकसान होते हैं या फिर नुकसान होनी की संभावना हो। डेबिट कार्ड से जुड़े नुकसान कुछ इस प्रकार है।

1. प्रोसेसिंग फीस

डेबिट कार्ड की सुविधा तो आपको बैंक से मिल जाती है लेकिन क्या आप जानते हैं की आपके द्वारा किये गए वैसे लेनदेन जो ATM मशीन से की जाती है उसके बदले बैंक आपके प्रत्येक लेनदेन पर कुछ पैसे काटती है। प्रोसेसिंग फीस बैंकों द्वारा और ज़्यादा तो तब काट ली जाती है जब आप अपने बैंक के ATM से पैसे निकालने के बाजय किसी अन्य बैंक के एटीएम से पैसे निकालते हो।

2. क्रेडिट स्कोर पर कोई प्रभाव नहीं

अगर आपका क्रेडिट स्कोर किसी कारण ख़राब हो गया है और आप इसे सुधारना चाहते हो तब आप इसे डेबिट कार्ड के जरिये कभी भी सुधार नहीं सकते। आपको अपने क्रेडिट स्कोर को सुधारने के लिए क्रेडिट कार्ड की आवश्यकता पड़ेगी।

मिलता जुलता लेख: NSE और BSE क्या है?

3. सीमित निकासी

डेबिट कार्ड की सबसे बड़ी कमी यह है की इसके जरिये एक दिन में आप केवल कुछ ही पैसों की निकासी कर सकते हैं। हर एक वित्तीय संस्थान या बैंकों की अपनी-अपनी सिमित निकासी सिमा तय होती है। एक दिन में आप उस तय सिमा से ज़्यादा का निकासी बिल्कुल नहीं कर सकते हैं।

4. धोखा-धड़ी के मामले में असुरक्षित है

तकनीक आज कितनी भी आए चली गयी है और वित्तीय कंपनी या बैंक कितनी भी कोशिश क्यों न करले धोखा धड़ी करने वाले लोग कुछ न कुछ दिमाग या तरीके लगाकर आपके मेहनत के पैसे चंद मिनटों में आपके खाते से गायब कर देते हैं। दूसरा सबसे बड़ा कारण है लोगों के बिच जागरूकता की कमीं होना, जाने-अनजाने में जब आप अपने डेबिट कार्ड का पिन किसी से साझा कर देते हो तब आपकी दिक्कतें बढ़ जाती है।

5. शिकायत की सुनवाई देरी से होती है

डेबिट कार्ड से जुड़ा कोई धोखा-धड़ी या फिर जाने अनजाने में किसी तरह से आपने डेबिट कार्ड के जरिये कोई लेनदेन कर दिया हो तब वैसी परिस्तिथि में आपके पैसों को आपके खाते में वापस आने में काफी समय लग जाता है। पैसे वापस मंगवाने की प्रक्रिया काफी धीमी भी होती है।

6. कोई रिवॉर्ड पॉइंट नहीं

वर्तमान समय में ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए लगभग सभी क्रेडिट कार्ड कंपनी ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए रिवॉर्ड पॉइंट की सुविधा देती है। जिसे कुछ समय बाद पैसों के रूप में इस्तेमाल करने की छूट होती है। लेकिन डेबिट कार्ड के साथ ऐसी सुविधा केवल कुछ ही बैंकों द्वारा दिया जाता है।

7. क्रेडिट कार्ड की तुलना में ज़्यदा रिस्की

डेबिट कार्ड का सबसे बड़ा नुकसान ये है की ये आपके बैंक अकाउंट से जुड़ा होता है। अर्थात किसी भी प्रकार की लेनदेन करने पर आपके बैंक खाते से ही पैसे एक झटके में काट लिये जाते हैं। लेकिन अगर किसी कारणवश किसी लेनदेन के दौरान कोई समस्या आती है। तब ऐसी परिस्तिथि में आपके बैंक खाते से पैसे जल्द ही काट लिए जाएंगे। जिसे वापस पाने के लिए आपको बैंकों के चक्कर लगाने पड़ सकते हैं।

इसे भी पढ़े:

अंतिम शब्द

इस लेख के माध्यम से आपने जाना की डेबिट कार्ड अर्थात ATM Card या कहें प्लास्टिक मनी के कितने फायदे हैं? साथ ही आपने इससे जुड़े संभावित नुकसान को भी जाना। इस लेख से सम्बंधित किसी प्रकार की कोई शिकायत, सुझाव या विचार आपके मन में हो तब निचे कमेंट करके हमें अवश्य बतलायें, धन्यवाद्।

Leave a Comment