कंप्यूटर क्या है? यह काम कैसे करता है और इसके कितने प्रकार हैं?

अब भी हमारे देश में ज्यादातार जनसंख्या ऐसी जो अब भी इस बात से अनजान है की कंप्यूटर आखिर क्या चीज़ है? इस बात की जानकारी नहीं होने का एक मात्र कारन है गरीबी, क्यूंकि इसकी कीमत इतनी होती है की एक आम इंसान को इसे खरीदने में बहुत ही जद्दो-जहत करनी पड़ती है। इस लेख के माध्यम से आप यह अच्छे से जान पाएंगे की कंप्यूटर क्या है? ये कितने प्रकार के होते हैं? इसकी विशेषता क्या है? और इसका उपयोग कहाँ किया जाता है?

कंप्यूटर क्या है यह काम कैसे करता है और इसके कितने भाग हैं
डेस्कटॉप कंप्यूटर

कंप्यूटर क्या है?

कंप्यूटर एक प्रोग्रामेबल इलेक्ट्रॉनिक्स मशीन है, जिसका काम है डाटा के रूप में इनफार्मेशन को सहेज कर रखना, इसका उपयोग करना और साथ ही इस डाटा में फेरबदल यानी की प्रोसेसिंग करना। यहां डाटा का मतलब टेक्स्ट, फोटो या वीडियो कुछ भी हो सकता है।

अंग्रेजी में Computer शब्द में Compute का अर्थ होता है गणना करना, कंप्यूटर का अविष्कार ही हुआ था गणना को आसान बनाने के लिए पर आगे चलकर इसका उपयोग बढ़ता गया और दिन-प्रतिदिन इसमें बदलाव आते चले गए।

अभी के युग की कंप्यूटर के बिना परिकल्पना करना बिलकुल ही अनुचित है, क्यूंकि अभी के इस युग में किसी भी काम को करने में कंप्यूटर का ही सबसे ज़्यादा इस्तेमाल होता है। यहाँ तक आप अभी यह जो लेख पढ़ पा रहें है, तब इसे बनाने में भी कंप्यूटर का इस्तेमाल किया गया है।

कंप्यूटर काम कैसे करता है?

अगर देखा जाए तब कंप्यूटर मोटे तौर पर तीन भागों में काम करता है: पहला इनपुट, दूसरा प्रोसेसिंग और तीसरा आउटपुट।

  • इनपुट(Input): कंप्यूटर में इनपुट किसी भी डाटा को कंप्यूटर में फीड करने का एक जरिये है, जैसे की कीबोर्ड के जरिये टेक्स्ट का इनपुट दिया जाता है, स्कैनर के जरिये किसी भी फोटो या पिक्चर को कंप्यूटर में डाला जाता है।
  • प्रोसेसिंग(Processing): किसी भी डाटा फॉर्मेट की इनपुट जब की जाती है तब उस डाटा के पीछे कुछ न कुछ उद्देश्य अवश्य होता है, जैसे टेक्स्ट का इनपुट लेटर या किसी दस्तावेज को लिखने में किया जाता है, पिक्चर डाटा का इस्तेमाल इसे एडिट कर प्रिंट निकालने के लिए किया जाता है। आसान शब्दों में किसी भी डाटा में जब किसी प्रकार की कोई बदलाव की जाती है तब उसे ही प्रोसेसिंग के नाम से जाना जाता है।
  • आउटपुट(Output): यह पकंप्यूटर सिस्टम का सबसे आखिरी प्रक्रिया होता है, जिसमे डाटा को कंप्यूटर प्रोसेसिंग करने के पश्चात कंप्यूटर से बाहर लिया या फिर निकाला जाता है। उदाहर के तौर आप इसे ऐसे समझें की टेक्स्ट इनपुट के जरिये आपने कंप्यूटर में कोई लेटर लिखा है और जब आप उस लेटर की प्रिंट, प्रिंटर के माध्यम से लेते हैं तब उसी प्रोसेस को आउटपुट के नाम से जाना जाता है।

कंप्यूटर को कितने भागों में वर्गीकृत किया गया है?

कंप्यूटर क्या है यह काम कैसे करता है और इसके कितने भाग हैं
कंप्यूटर यूनिट

कंप्यूटर को मुख्यतः तीन भागों में वर्गीकृत किया गया है, और वह कुछ इस प्रकार से हैं:

  1. सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट ()
  2. मेमोरी यूनिट (Memory Unit)
  3. इनपुट तथा आउटपुट डिवाइस

1. सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (CPU)

CPU कंप्यूटर का एक अहम् अंग है जिस तरह से इंसानो के शरीर में दिमाग जितना मायने रखता है ठीक उसी तरह से कंप्यूटर के लिए CPU मायने रखता है। कंप्यूटर के इस भाग का सबसे अहम् काम है डाटा को प्रोसेस करना और इस प्रोसेसिंग का मतलब है डाटा को पहले पढ़ना, फिर समझना और उसके बाद उस डाटा पर यूजर द्वारा दिए गए कमांड के अनुसार उसमे फेर-बदल करना।

सेंट्रल प्रॉसिंग यूनिट (CPU) को भी आगे तीन भागों में वर्गीकृत किया गया है:

  1. ALU(अर्थमेटिक लॉजिकल यूनिट)
  2. CU (कण्ट्रोल यूनिट)
  3. Register (रजिस्टर)

2. मेमोरी यूनिट (Memory Unit)

जिस प्रकार से इंसानो के दिमाग का कुछ हिस्सा यादाश्त को सहेज कर रखता है, ठीक उसी प्रकार कंप्यूटर में मेमोरी यूनिट का काम है डाटा के रूप में सबकुछ अपने पास सहेज कर या फिर कहें सेव करके रखना। मेमोरी यूनिट कंप्यूटर का बहुत ही अहम् भाग है और इसे स्टोरेज यूनिट के नाम से भी जाना जाता है।

मेमोरी यूनिट किसी भी डाटा को रिसीव कर सकता है, फिर उस डाटा को जब तक आप चाहें सहेज कर रखता है और फिर जॉर्ट पड़ने पर कभी भी यह किसी भी डाटा को वापस आपको दे सकता है। मेमोरी यूनिट को भी दो भागो में विभाजित किया गया है:

  1. प्राइमरी मेमोरी (Primary Memory): RAM, ROM, Cache Memory इत्यादि।
  2. सेकेंडरी मेमोरी (Secondary Memory): Hard Disk, Floppy Disk, Magnetic Tape, इत्यादि।

3. इनपुट तथा आउटपुट डिवाइस

  • इनपुट डिवाइस: वैसी इलेक्ट्रॉनिक्स डिवाइस जिसका उपयोग कॉम्पुएट में डाटा इनपुट करने के लिए किया जाता है उसे इनपुट डिवाइस कहते हैं। जैसे: कीबोर्ड- इससे हम डाटा को कंप्यूटर में टेक्स्ट के रूप में डालते है, स्कैनर- इससे हम किसी भी कागजात या फिर फोटो को कंप्यूटर में स्कैन करके डालते हैं।
  • आउटपुट डिवाइस: वैसी इलेक्ट्रॉनिक्स डिवाइस जिसका उपयोग कंप्यूटर से डाटा बाहर लेने के लिए किय जाता है उसे आउटपुट डिवाइस कहते हैं। जैसे: मॉनिटर में हम डाटा को देख पाते हैं, प्रिंटर से हम कंप्यूटर से डाटा को कागज में प्रिंट कर पाते हैं।

कंप्यूटर के प्रकार

कंप्यूटर के मुख्य रूप से पांच प्रकार में वर्गीकृत किया जाता है:

  • माइक्रो कंप्यूटर (Micro Computer)
  • मिनी कंप्यूटर (Mini Computer)
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर (Mainframe Computer)
  • सुपर कंप्यूटर (Super Computer)
  • क्वांटम कंप्यूटर (Quantum Computer)

इसे भी पढ़ें: इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स (IOT) क्या है? इसके फायदे, नुकसान और यह काम कैसे करता है?

अंतिम शब्द

इस लेख के माध्यम से आपने जाना की कंप्यूटर क्या है? इसके कितने प्रकार हैं और अंत में यह भी जाना की इसे कितने भागों में वर्गीकृत किया गया है। लेख से सम्बंधित किसी प्रकार की कोई शंका या सवाल आपके मन में हो तब निचे कमेंट करके हमें अवस्य बतलायें, धन्यवाद।

FAQs

कंप्यूटर के कितने प्रकार होते है?

कंप्यूटर के पांच प्रकार होते हैं:
मिनी कंप्यूटर, माइक्रो कंप्यूटर, मेनफ़्रेम कंप्यूटर, सुपर कंप्यूटर, क्वांटम कंप्यूटर

Leave a Comment