इलेक्ट्रिक स्कूटर के फायदे और नुकसान

4.6
(267)

Last Updated on December 12, 2021 by WikiHindi

समय की मांग कहें या फिर कहें जरूरत, लोग अब धीरे-धीरे पेट्रोल और डीज़ल से चलने वाली गाड़ियों को छोड़ इलेक्ट्रिक स्कूटर या कार लेने का मन बनाने लगे हैं। इसके पीछे दो सबसे महत्वपूर्ण कारण है पहला: ईंधन की बढ़ती कीमतें और दूसरा: पर्यावरण के प्रति लोगों की जागरूकता। इस लेख के माद्यम से आप जानेंगे की आखिर इलेक्ट्रिक स्कूटर खरीदने के क्या फायदे हैं और साथ ही आप इससे जुड़े संभावित नुकसान के बारे में जानेंगे।

इलेक्ट्रिक स्कूटर के फायदे

जब बात स्कूटर की आती है तब ये अपने आप में शहरी क्षेत्र के लिए काफी सहूलियत भरा साधन माना जाता है। अगर ये स्कूटर ईंधन के बजाय बिजली या कहें बैटरी से संचालित हो तब तो और क्या कहना! फिर तो इससे जुड़े फायदों की सूची काफी लम्बी हो जाएगी।

1. काफी सुविधाजनक

बात गैस सैलेन्डर लाने की हो या लाना हो घर का राशन इन सब मामले में स्कूटर काफी किफायती शाबित होता है। और इस बात से आप अंदाजा लगा सकते हैं की ईंधन के बजाय बैटरी से चलने वाले स्कूटर या इलेक्ट्रिक कार केवल युवाओं के लिए सुविधाजनक नहीं बल्कि ये बुजुर्गों के लिए भी एक अच्छा साधन उभर कर सामने आ रहा है।

2. चलाना और सीखना काफी आसान

इलेक्ट्रिक स्कूटर की सबसे बड़ी खासियत ये है की इसे चलाना काफी आसान है। अगर आप साइकिल चलाना जानते हैं, तब मुश्किल से पहले या दूसरी कोशिश में ही आप इसे भी सड़कों पर सरपट दौरा लोगे। यही कारन है की ये युवाओं के साथ-साथ वैसे लोगों के बिच भी आकर्षण का केंद्र बना हुआ है, जो अभी नयी-नयी गाड़ियां चलाना सीखना चाहते हैं।

3. जेब पर कम दबाव

जैसा की आप सभी जानते हैं, इलेक्ट्रिक स्कूटर में पारम्परिक ईंधन से चलने वाली गाड़ियों के इंजन का इस्तेमाल नहीं होता। इसलिए इसमें एक निश्चित समय पर शोरूम में जाकर सर्विसिंग करवाने की भी जरुरत नहीं पड़ती। इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं की ये किस हद्द तक आपके फ़िज़ूल खर्चे को बचाता है। ये तो थी सर्विसिंग और रख-रखाव से जुड़ी बातें।

अगर अब बात करें इसे चार्ज करने में लगने वाली बिजली के खर्चों के बारे में तब ये किसी भी शहरी यातायात से जुड़े साधन से भी काफी सस्ता पड़ती है।

4. ठीक करना काफी आसान है

चूँकि इलेक्ट्रिक स्कूटर के पीछे किसी तरह की राकेट साइंस नहीं होती। इसमें इस्तेमाल किये जाने वाले मोटर बिल्कुल किसी घर के पंखे की तकनीक पर ही काम करती है। इसलिए जब इलेक्ट्रिक स्कूटर में किसी प्रकार की कोई खराबी आती है, तब इसे सुधारना अन्य वाहनों के तुलना में काफी आसान हो जाता है।

5. ग्रीन हाउस को कम करने में मदद करता है

किसी भी अन्य ऐसे वाहन जो ईंधन से चलते हैं, उनकी तुलना में ये काफी ज़्यादा पर्यावरण हितैषी है। अर्थात इससे पर्यावरण में गाड़ियों से निकलने वाली ग्रीन हाउस गैसों को कम करने में काफी ज़्यादा सहयोग करता है। वैसे इससे भी ग्रीनहॉउस गैस अप्रत्यक्ष रूप से पर्यावरण में फैलती है जो की बिजली निर्माण से जुडी हुई है।

6. हवा की गुणवत्ता

अगर आप एक पर्यवरण प्रेमी हो और आप स्वक्षता के प्रति एक जागरूक नागरिक की भूमिका अदा करना चाहते हो तब इलेक्ट्रिक स्कूटर आपके लिए है। क्योंकि इससे न केवल शोर शराबा कम होता है। बल्कि इससे आपके सहर की हवा की गुणवत्ता को बरक़रार रखने में भी काफी ज़्यादा मदद मिलती है। अगर आप भी चाहते हो की आने वाली पीढ़ी साफ़-सुथरी हवा में साँसे ले तब इलेक्ट्रिक वाहन का ही प्रयोग करें।

इलेक्ट्रिक स्कूटर से जुड़े नुकसान

अब तक आपने इससे जुड़े फायदों के बारे में पढ़ा लेकिन दुनिया में ऐसी कोई चीज़ नहीं जो सत प्रतिशत सही हो। अर्थात इलेक्ट्रिक कार अथवा स्कूटर के केवल फायदे ही नहीं बल्कि इससे जुड़े कई सारे नुकसान भी हैं, जिसकी जानकारी होनी सबके लिए जरूरी है।

1. दुर्घटना को आमंत्रण देता है

चूँकि भारत में 25 km/h या फिर 250 watt तक की श्रेणी में आने वाली लगभग सभी इलेक्ट्रिक स्कूटर में लाइसेंस की जरूरत नहीं पड़ती। इसलिए ये कहीं न कहीं दुर्घटना को आमंत्रित करता है। क्यूंकि कुछ लोग बगैर सीखे सड़क पर वाहन लेकर निलेंगे तब ये एक तरह से दूसरे लोगों के लिए खतरे की घंटी की तरह होगी। क्योंकि बगैर सीखे और कम उम्र के बच्चे जोश-जोश में इसका गलत उपयोग करने लगेंगे।

2. ओवरचार्जिंग से बैटरी को नुकसान

ये तो सही जानते हैं की बैटरी आपके स्मार्टफोन की या फिर आपके एलेट्रिक स्कूटर की अगर जरूरत से ज़्यादा इसे चार्ज किया जाए तब इससे इसकी उम्र कम होने लगती है। कभी-कभी तो ओवरचार्जिंग के कारण बैटरी फटने का भी ख़तरा बना रहता है।

3. लम्बी दुरी का सफर आज भी मुश्किल

इलेक्ट्रिक स्कूटर का उपयोग आज भी शहरी क्षेत्रों तक ही शिमित है। क्योंकि जिस प्रकार पेट्रोल और डीजल पंप हर एक किलोमीटर की दुरी पर मौजूद है, उस तरह इलेक्ट्रिक वाहन को चार्ज करने की सुविधा शहर के बाहर मौजूद नहीं है। आज भी इसी कमी के कारण लोग इलेक्ट्रिक कार या स्कूटर खरीदने से हिचकिचाते हैं।

4. स्टोरेज की समस्या

इलेक्ट्रिक स्कूटर की सबसे बड़ी समस्या यही है की बाकी स्कूटरों की तुलना में इसमें काफी कम स्टोरेज की सुविधा होती है। अर्थात सीट के निचे स्टोरेज मिलने के बजाय यहां भारी भरकम बैटरी राखी जाती है।

इसे भी पढ़ें: इलेक्ट्रिक स्कूटर के फायदे और नुकसान

5. अंडरपावर

आज भी इलेक्ट्रिक स्कूटर की सबसे बड़ी समस्या है की ये आज भी काफी ज़्यादा अंडर पावर है। अर्थात हाईवे पर किसी बड़ी वाहन को ओवरटेक करने के दौरान काफी ज़्यादा समस्या आती है। जो कहीं-न-कहीं किसी दुर्घटना को आमंत्रित करती है।

6. महँगी

इलेक्ट्रिक वाहन चाहे वो कार हो या हो स्कूटर ये आज भी बाकी अन्य वाहन की तुलना में काफी महँगी है। इसके पीछे का एकमात्र कारण ये है की आज भी वैज्ञानिक इलेक्ट्रिक वाहन को उपयुक्त बनाने में लगे हुए हैं। यही कारण है की रिसर्च में लगने वाले पैसे कहीं न कहीं ग्राहकों से ही वसूले जाते हैं। इलेक्ट्रिक स्कूटर महंगा होने का एक और कारण है इसमें उपयोग किया जाने वाली महँगा और शक्तिशाली बैटरी।

इसे भी पढ़ें: इलेक्ट्रिक स्कूटर, बाइक या कार की माइलेज या रेंज कैसे बढ़ाएं?

अंतिम शब्द

इस लेख के माध्यम से आपने जाना की इलेक्ट्रिक स्कूटर के क्या फायदे हैं और साथ ही आपने इससे जुड़े संभावित नुकसान के बारे में भी जाना। इस लेख से सम्बंधित किसी प्रकार की कोई सुझाव, शिकायत या सवाल आपके मन को विचलित करते हो तब निचे कमेंट करके हमें अवश्य बतायें, धन्यवाद।

आपको जानकारी कैसी लगी?

औसत वोट 4.6 / 5. वोट दिया गया: 267

आपने अब तक वोट नहीं दिया, कृपया वोट दें

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

3 thoughts on “इलेक्ट्रिक स्कूटर के फायदे और नुकसान”

Leave a Comment