Fiber Optic Cable क्या है? प्रकार, फायदे और नुकसान

जियो और एयरटेल ने भारत में हर एक घर तक इंटरनेट पहुंचे, इसे सुनिश्चित करने के लिए फाइबर ब्रॉडबैंड प्लान की शुरुआत की है। जिसे इंटरनेट यूजर द्वारा काफी ज़्यादा पसंद किया जा रहा है। इसके पीछे का एकमात्र कारण है, इंटरनेट की स्पीड। लेकिन इसके जरिये तेज़ इंटरनेट संभव कैसे हुआ? और ये जियो या एयरटेल फाइबर में फाइबर शब्द का अर्थ क्या है? इस लेख के माध्यम से आपको फाइबर से जुड़ी तमाम जानकारियां मिलेंगी।

Fiber Optic Cable क्या है?

मुख्य तौर पर एक Fiber Optic Cable नेटवर्क केबल होता है, जिसमे एक इंसुलेटेड आवरण के अंदर कांच से बने तार मौजूद होता है। इस केबल का इस्तेमाल लम्बी दुरी पर हाई स्पीड इंटरनेट का संचरण के लिए किया जाता है।

अन्य किसी भी तार या माध्यम के मुकाबले Fiber Optic Cable अत्यधिक बैंडविड्थ मुहैया कराने में सक्षम है। वर्तमान समय में फाइबर ऑप्टिक केबल का इस्तेमाल मुख़्यतौर पर इंटरनेट चलाने के लिए किया जा रहा है।

Fiber Optic Cable की बनावट

Fiber Optic Cable क्या है प्रकार, फायदे और नुकसान
Fiber Optic Cable की बनावट

किसी भी फाइबर ऑप्टिक केबल में एक या एक से अधिक कांच के बने तार, इंसुलेटेड आवरण के बिच मौजूद होते हैं। इन तारों की मोटाई इंसान के बाल की मोटाई के आस-पास ही होती है। ऑप्टिक फाइबर में मौजूद कोर भी एक परत से घिरी होती है। जिसे क्लैडिंग के नाम से जाना जाता है। प्रत्येक ऑप्टिक फाइबर तार के केंद्र को कोर कहा जाता है, जिसमे प्रकाश के रूप में डाटा एक स्थान से दूसरे स्थान तक जाती है, और इंटरनेट की सुविधा प्रदान करती है।

Fiber Optic Cable के प्रकार

फाइबर ऑप्टिक केबल को मुख्य रूप से दो भागों में वर्गीकृत किया गया है और वह कुछ इस प्रकार है:

  • सिंगल मोड Fiber Optic Cable: वैसे Fiber Optic Cable जिसके कोर के अंदर रौशनी कई भागों में बंट जाती है और केबल के अंदर यात्रा कर रिसीविंग अंत तक पहुँचती है वह मल्टिमोड फाइबर ऑप्टिक केबल कहलाती है। मल्टिमोड कोर की मोटाई लगभग 50 माइक्रोमीटर और 62.5 माइक्रो मीटर के बिच होती है।
  • मल्टिमोड Fiber Optic Cable: वैसे Fiber Optic Cable जिसके कोर के अंदर रौशनी केवल यात्रा करती है और केबल के अंदर यात्रा कर रिसीविंग अंत तक पहुँचती है, वह सिंगल फाइबर ऑप्टिक केबल कहलाती है। मल्टिमोड कोर की मोटाई लगभग 8 माइक्रो मीटर और 9 माइक्रो मीटर के बिच होती है।

Fiber Optic Cable काम कैसे करता है?

Fiber Optic Cable मुख्य रूप से भौतिकी के एक सिद्धांत Total Internal Reflection की पद्दति पर काम करती है। जिसमे रौशनी की किरणें किसी एक ही माध्यम में पूर्ण रूप से परिवर्तित होकर यात्रा करती है, और यह अपने माध्यम में यात्रा करने के दौरान इससे बाहर नहीं निकलती।

आप सभी को यह ज्ञात होगा की कॉपर युक्त तार में डाटा का संचरण इलेक्ट्रॉनिक्स पल्स के रूप में होता है और वहीं फाइबर ऑप्टिक केबल में डाटा का संचरण लाइट पल्स के जरिये होता है।

Fiber Optic Cable के फायदे और नुकसान

आपने अब तक जाना और समझा की फाइबर ऑप्टिक केबल क्या है? साथ ही आपने ये भी जाना की फाइबर ऑप्टिक केबल की बनावट कैसी होती है। इस लेख में आगे आप जानोगे की ऑप्टिक फाइबर केबल के फायदे और नुकसान क्या है:

Fiber Optic Cable के फायदे

1. उच्च बैंडविड्थ

किसी भी फाइबर ऑप्टिक केबल में एक आम धातु के तार की तुलना उच्च बैंडविड्थ होती है। यही कारण है की फाइबर ऑप्टिक केबल के जरिये डाटा का ट्रांसमिशन काफी तेज़ी से होता है।

2. लम्बी दुरी

फाइबर ऑप्टिग्स केबल में डाटा का संचरण करने में कम से कम ऊर्जा का इस्तमाल होता है और कम पावर के इस्तेमाल के बावजूद इसे लम्बी दुरी तक ले जाया जा सकता है। हैरान करने वाले बात तो ये है, इस केबल का उपयोग समुद्र के अंदर से दो देशों को इंटरनेट से जोड़ने में किया जा रहा है। जिसमे हमारे देश की कंपनी TATA की भागीदारी लगभग 24 प्रतिशत है।

3. बेहतर फ्लेक्सिबिलिटी

साधारण धातु युक्त तारों की तुलना में फाइबर ऑप्टिक केबल किसी भी पर्यावरणीय हालात का सामना करने में ज़्यादा सक्षम है और इसमें तनाव को झेलने की क्षमता आम तारों की तुलना में काफी ज़्यादा होती है। यही कारण है की इसे लम्बे समय तक बगैर किसी समस्या के इस्तेमाल किया जाता है।

4. लेटेंसी को कम करता है

आजकल इंटरनेट से जुड़ी सबसे ज़्यदा समस्या अगर कोई है तब वह है, लेटेंसी। आसान शब्दों में अगर बात करें तब लेटेंसी का अर्थ है, किसी एक नेटवर्क का दूसरे नेटवर्क से जुड़ने में लगने वाला समय। लेटेंसी जितनी कम होगी, कनेक्टिविटी उतनी ही तेज़ होगी। लाइव गेम प्ले या लाइव वीडियो स्ट्रीमिंग में लेटेंसी काफी मायने रखते हैं।

5. बेहतर सुरक्षा

धातु युक्त तारों से डेटा की चोरी एक आम समस्या हुआ करती थी। जिसे फाइबर ऑप्टिक केबल ने लगभग नामुमकिन बना दिया है। ऐसा इसलिए क्योंकि फाइबर ऑप्टिक केबल से छेड़ -छाड़ करके इससे डेटा चोरी नहीं किया।

Fiber Optic Cable के नुकसान

1. भंगुरता

आमतौर पर फाइबर ऑप्टिक केबल कोर को कांच से बनाया जाता है और यही कारण है की जरा सा इसे मोड़ने पर यह टूट सकता है। जिससे डेटा का ट्रांसमिशन पूरी तरह से रुक सकता है।

2. सेटअप करना मुश्किल

इस केबल को को इस्तेमाल करने के लिए खास प्रकार की मशीनों की आवश्यकता पड़ती है। बगैर पूर्व जानकारी या किसी एक्सपर्ट के एक आम इंसान के लिए इसे स्थापित करना मुश्किल है। किसी प्रकार की टूट-फुट की स्तिथि में आपके लिए परेशानी खड़ी कर सकता है। जबकि धातु से बने तारों का सेटअप एक आम इंसान बड़ी ही आसानी से कर सकता है।

3. महँगी

बाकी किसी भी दूसरे तारों की तुलना में ऑप्टिकल फाइबर केबल काफी महंगा होता है। महंगा होने का एकमात्र कारण है इसकी बनावट और इसे बनाने में इस्तमाल किया जाने वाली वस्तुएं।

4. चंद सेकंड में केबल नष्ट हो सकता है

फाइबर ऑप्टिक केबल में ध्यान रखने वाली बात ये है की, अगर लिमिट से अधिक इस केबल के जरिये लाइट पल्स भेजी जाती है। तब लाइट्स के imperfection के कारण ग्लास फाइबर के अंदर फाइबर फ्यूज की समस्या उत्पन्न होती है। जो फाइबर ऑप्टिक केबल को केवल चंद मिनटों में नष्ट करने के लिए काफी होती है।

फाइबर ऑप्टिक केबल का उपयोग

दिन-प्रतिदिन फाइबर ऑप्टिक केबल के इस्तेमाल में काफी तेज़ी से इज़ाफ़ा हुआ है। इसकी वजह से इस तार से जुड़े फायद, जिसे आपने ऊपर पढ़ा। वर्तमान समय में फाइबर ऑप्टिक केबल का इस्तेमाल स्वास्थ्य से लेकर रक्षा मामलों में किया जाता है। इसके अलावा और भी कई ऐसे क्षेत्र हैं, जहां ऑप्टिक फाइबर केबल का इस्तेमाल होने लगा है।

1. चिकित्सा के क्षेत्र में

ऑप्टिकल फाइबर की काफी पतली संरचना और इसके लचीलेपन कारण, फाइबर केबल का इस्तेमाल मरीज़ों के सर्जरी अर्थात साली चिकित्षा में किया जाता है। डॉक्टर कई अन्य डिवाइस के साथ ऑप्टिकल फाइबर का जोड़कर, इसका इस्तेमाल मरीज़ों के आंतरिक शरीर को देखने में करते हैं।

2. नेटवर्किंग

कंप्यूटर और नेटवर्किंग के फील्ड की कल्पना ऑप्टिकल फाइबर केबल के बिना तो जैसे असंभव है। बड़ी कम्पनियों ऑफ़ ऑफिस में यहां तक की बैंकों में भी कंप्यूटर को सर्वर से कनेक्ट करने में इसका उपयोग किया जाता है। जिससे एक्यूरेसी के साथ ही कनेक्टिविटी भी तेज़ हो जाती है।

अंतिम शब्द

इस लेख के माध्यम से आपने जाना की Fiber Optic Cable क्या है? और साथ ही आपने यह भी जाना की इसके कितने प्रकार हैं और यह काम कैसे करता है? इस लेख से सम्बंधित किसी प्रकार की कोई शंका या सवाल आपके मन में हो तब निचे कमेंट करके हमें अवस्य बतलायें, धन्यवाद।

इसे भी पढ़ें:

FAQs

Q: फाइबर ऑप्टिक केबल के कितने प्रकार हैं?

उत्तर: दो प्रकार सिंगल मोड और मल्टिमोड

Q: फाइबर ऑप्टिक केबल किस सिद्धांत पर काम करता है?

उत्तर: भौतिकी के Total Internal Reflection वाले सिद्धांत पर फाइबर ऑप्टिक केबल काम करता है।

Leave a Comment