VPN क्या है, और काम कैसे करता है ? फायदे और नुकसान

4.5
(152)

Last Updated on September 18, 2021 by WikiHindi

VPN इस शब्द को अपने कभी न कभी अवश्य सुना होगा। लेकिन कम ही लोग ऐसे होंगे जिन्हे इसकी पूरी जानकारी होगी। तो आखिर ये VPN है क्या? ये काम कैसे करता है? और इसके फायदे और नुकं क्या हैं? ऐसे हर एक सवालों का जवाब आपको इस लेख के अंत तक मिल जाएंगे।

VPN क्या है?

अगर बात की जाये इसके मतलब की तब अंग्रेजी में VPN का अर्थ होता है Virtual Private Network। इसकी कार्यप्रणाली भी बिल्कुल इसके नाम पर ही निर्भर करती है। तो VPN एक प्रकार की ऑनलाइन सेवा है जिसके इस्तेमाल से कोई यूजर किसी भी देश में रहकर वहाँ के प्रतिबंधत वेबसाइट को एक्सेस कर सकता है। बहुत सारे देश किसी अन्य देश के कंटेंट को सुरक्षा की दृष्टि से या फिर सेंसरशिप जैसे कारणों से कुछ वेबसाइट पर प्रतिबन्ध लगा देती है।

VPN क्या है, और काम कैसे करता है  फायदे और नुकसान
VPN क्या है, और काम कैसे करता है फायदे और नुकसान

केवल देश ही नहीं बल्कि कॉलेज या कई अन्य शैक्षणिक संस्थान भी कुछ वेबसाइट खासकर सोशल मीडिया पर प्रतिबद्ध लगाती है। ताकि छात्रों को इंटरनेट के गलत प्रयोग से बचाया जा सके। किसी भी प्रतिबंधित वेबसाइट को यूजर की द्वारा इस्तेमाल में लेना मुश्किल हो जाता हैऔर वेबसाइट खोलने के दौरान Errors दिखाई देने लगते हैं।

VPN इसी Error को बिपस्सस करने का एक तरीका है जिसके जरिये यूजर किसी भी नेटवर्क में प्रतिबंधित वेबसाइट को भी एक्सेस कर लेता है और सर्विस प्रोवाइडर को इसकी भनक भी नहीं लगती। आमतौर पर VPN का इस्तेमाल ऑनलाइन गेमिंग और फिल्मों या वेब सीरीज जैसे कंटेंट को डाउनलोड करने के लिए किया जाता है।

VPN काम कैसे करता है?

VPN किसी भी VPN सर्वर का इस्तेमाल करता है। यह यूजर को आभासी लोकेशन के माध्यम से प्रतिबंधित वेबसाइट को इस्तेमाल करने का मौका देता है। VPN का इस्तेमाल करने के लिए यूजर को केवल अपने कंप्यूटर या फिर स्मार्टफोन में सॉफ्टवेयर डाउनलोड करने की आवश्यकता पड़ती है। सॉफ्टवेयर को रन करते ही आपके पास ऐसे कई सरे देशों के विकल्प आ जाते हैं, जिसका वर्चुअल नेटवर्क यूजर इस्तेमाल करना चाहता है।

एक बार यूजर किसी वर्चुअल नेटवर्क से जुड़ जाता है तब किसी के लिए यूजर का असल IP Address को ट्रैक करना मुश्किल हो जाता है। VPN काम कैसे करती है? इस प्रक्रिया को आप निचे दिए गए उदाहरण से आसानी हैं:

आप मान लें की भारत के निवासी हो और इंटरनेट से ऑनलाइन गेमिंग खेलना चाहते हो लेकिन ऑनलाइन गेमिंग के सर्विस प्रोवाइडर ने अपनी सेवा भारत में शुरू नहीं की है और वर्तमान में कंपनी अपनी सेवा सिर्फ कनाडा के यूजर के लिए लांच की है। तब ऐसी परिस्तिथि में आपके लिए ऑनलाइन गेम खेलना नामुमकिन सा है।

लेकिन अगर आप VPN का इस्तेमाल करके कनाडा के वर्चुअल सर्वर को चुनते हो तब आपके लिए भी ऑनलाइन गेमिंग के रस्ते खुल जाएंगे और आप अपने देश भारत में रहते हुए भी सानंदा में दी जा रही ऑनलाइन गेमिंग की सेवा का लुफ्त उठा सकते हो।

VPN के फायदे

VPN इस्तेमाल करने का सबसे बड़ा फायदा यही है की इसके जरिये ऑनलाइन गेमिंग खेला जा सकता है, ऑनलाइन कंटेंट देखा जा सकता है या फिर अपनी पढ़ाई या रिसर्च के लिए ऑनलाइन अध्यन की सामग्री को भी इक्कठा की जा सकता है। इसके अलावा VPN के और भी कई सरे फायदे हैं जो की कुछ इस प्रकार है:

1. सुरक्षित

VPN की सबसे बड़ी खासियत यह है की यह यूजर के IP Address को मास्क कर देता है और आपके लोकेशन को चेंज कर देता है। इस कारण यूजर के असल लोकेशन और IP Address को ट्रैक करना नामुमकिन सा हो जाता है। इसके जरिये यूजर इस बात से निश्चिंत होता है की उसे कोई ऑनलाइन ट्रैक कर रहा होगा।

इसके अलावा एक और फायदा यह है की कोई Third Party Mobile Application या Software को यूजर की असली जानकारी का पता नहीं होता है। जिससे डाटा लीक होने की स्तिथि या किसी को डाटा बेचने की स्तिथि में भी आपकी प्राइवेसी सुरक्षित रहती है।

2. Geo-Location को बाईपास करता है

VPN की सबसे बड़ी खासियत यह है की जब किसी कंटेंट को किसी खास देश या क्षेत्र तक सिमित रखा जाता है। लेकिन यूजर फिर भी उस जानकारी को पढ़ना या इस्तेमाल करना चाहता है तब VPN यूजर के लोकेशन को उसके सिमित दायरे में ले जाकर उस कंटेंट को इस्तेमाल करने की सुविधा देता है।

3. आपके ऑनलाइन कनेक्शन को सुरक्षित करता है

अभी के समय में पब्लिक WiFi का मिलना और इस्तेमाल करना काफी आसान हो गया है। बड़ी-बड़ी मॉल हो या फिर होटल ही क्यों न हो ऐसे सभी स्थानों पर WiFi की सुविधा होती है। लेकिन इन Public WiFi का बगैर सोचे-समझे इस्तेमाल करना यूजर को किसी बड़ी परेशानी में फसा सकता है। जैसे साइबर अपराधियों को आपके बैंक खाते की जानकारी मिलना जिससे आपके खाते से पैसे उड़ाए जा सकते हैं।

क्यूंकि अकसर यह देखा गया है की इससे डाटा लीक्स होते हैं और आपकी प्राइवेसी को भी खतरा रहता है। ऐसे किसी परिस्तिथि से बचने में भी VPN काफी कारगर साबित होता है।

4. ऑनलाइन गेमिंग और Torrent में मददगार

आपने हाल ही सुना होगा की भारत सरकार ने PUBG गेम पर प्रतिबन्ध लगा दिया था। लेकिन फिर भी बच्चे PUBG खेल रहे थे, लेकिन यह सम्भव कैसे हुआ? इसका एकमात्र उत्तर है VPN. क्यूंकि VPN का इस्तेमाल कर बच्चे अपनी India की लोकेशन को बदलकर किसी वैसे देश की करते थे जहां पर PUBG गेम पर प्रतिबन्ध न हो।

Torrent एक ऐसी वेबसाइट है जहाँ पर मुफ्त में वो सारे पेड कंटेंट मौजूद हैं जिसकी आप कल्पना भी नहीं कर सकते। लेकिन इस वेबसाइट पर कई सारे देशों ने प्रतिबन्ध लगाया हुआ है और इसका एकमात्र कारण है सेंसरशिप। लेकिन VPN का इस्तेमाल करके आज भी इस वेबसाइट को एक्सेस करना और यहां से कंटेंट डाउनलोड करना काफी आसान है।

5. छात्रों और शोधकर्ताओं के लिए है रामबाण

अगर किसी यूजर को भिन्न-भिन्न श्रोतों से जानकारी इकठा करनी हो और अपने किसी प्रोजेक्ट में इस्तेमाल करना हो तब वैसे हालात में VPN उनके लिए किसी रामबाण से कम नहीं है। इसके जरिये छात्र और शोधकर्ता दूसरे देश की जानकारी को पढ़ सकते हैं जो किसी खास देश तक ही सिमित होता है। बहुत सारे शैक्षणिक संस्थान ऐसे कई सारे वेबसाइट पर भी प्रतिबंद लगा देते हैं जो जानकारी इक्कठा करने का एक अच्छा साधन होते हैं।

VPN के नुकसान या कमियां

VPN इस्तेमाल करने के तो अनेकों फायदे हैं। लेकिन अगर सही VPN का चुनाव कर उपयोग न किया जाए तब ये उतना कारगर शायद शाबित न हो। वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क के अनेकों नुकसान और इनसे जुडी कमियां भी है जिसकी जानकारी होना किसी के लिए भी फायदेमंद शाबित हो सकता है।

1. सभी VPN आपकी प्राइवेसी की सुरक्षा नहीं करता

ऐसे कई सारे ऐप्स गूगल के Play Store पर मौजूद हैं जो इस बात का दावा करते हैं की यह आपकी प्राइवेसी की सुरक्षा करता है। लेकिन असलियत कुछ और ही होती है। एक गलत एप्लीकेशन का भूल से भी इस्तेमाल करना आपके लिए काफी महंगा शाबित हो सकता है। ये आपकी प्राइवेसी की सुरक्षा के बाजय आपके डाटा किसी थ्रीड पार्टी एप्लीकेशन को भी बेच सकता है।

इसलिए किसी भी VPN की सेवा देने वाले एप्लीकेशन को अपने स्मार्टफोन में इनस्टॉल करने से पहले अपने तरफ से अच्छी तरह से जांच-परख करलें।

2. सब्सक्रिप्शन फीस काफी महंगी

VPN की दूसरी सबसे बड़ी कमी यही है की ये काफी महंगे होते हैं। अगर फ्री सर्विसेज की बातें की जाए तब इसमें कई बाध्यता होती है जैसे की स्पीड लिमिट, समय की पाबंधी, VPN Servers की कमी। कभी कभी तो फ्री VPN Serice प्रोवाइडर्स ही आपकी डाटा को किसी थ्रीड पार्टी ऐप्स को बेच देते हैं।

3. सभी डिवाइस सपोर्ट नहीं करते

VPN की अन्य सबसे बड़ी कमी यह है की इसके सॉफ्टवेयर आपके सभी डिवाइस को शायद सपोर्ट ही न करें, जिसके पेड सब्सक्रिप्शन के लिए अपने भरी-भरकम पैसे भी क्यों न चुकाया हो। इस कमी से बचने का एक ही तरीका है और वह यह है की इनके पेड सेवा खरीदने या Renew करने पहले इनकी सारे जानकरी इंटरनेट से इक्कठी करलें। साथ ही हो सके तब अन्य यूजर के रिव्यु को अवश्य पढ़ लें।

4. स्लो इंटरनेट स्पीड

VPN की अबतक की सबसे बड़ी कमी यही है की आप पेड सर्विस का इस्तेमाल करें या फ्री सर्विस का इससे आपकी ब्राउज़िंग स्पीड में काफी कमी देखने को मिलता है। भले ही आपके इंटरनेट सर्विस प्रोवीडर की तरफ से 30MB की स्पीड क्यों न मिलती हो VPN के जरिये ये स्पीड घटकर 2-3 MBPS तक रह जाती है।

अंतिम शब्द

इस लेख के माध्यम से आपने जाना की VPN क्या है? और साथ ही आपने जाना की इसके फायदे क्या हैं और इससे जुड़े नुकसान और कमियों को भी आपने जाना। लेख से सम्बंधित किसी तरह की कोई सवाल, शिकायत या सुझाव आपके मन में हो तब निचे कमेंट करके हमें अवश्य बतलायें, धन्यवाद।

इसे भी पढ़ें:

आपको जानकारी कैसी लगी?

औसत वोट 4.5 / 5. वोट दिया गया: 152

आपने अब तक वोट नहीं दिया, कृपया वोट दें

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

शेयर करने के लिए कोई एक चुने

Leave a Comment